• Home »
  • UP ELECTION 2017 »
  • चुनाव खर्च का ब्यौरा न देने वाले प्रत्याशियों पर कार्यवाही

चुनाव खर्च का ब्यौरा न देने वाले प्रत्याशियों पर कार्यवाही

ग्रेटर नोएडा : विधानसभा चुनाव में ताल ठोंकने वाले आठ प्रत्याशियों के लिए मुश्किलें बढ़ गई है। चुनाव प्रचार खर्च का ब्यौरा न देने पर रिटर्निंग अफसर ने उनके प्रचार वाहन की अनुमति रद कर दी है। उड़न दस्तों को निर्देश दिए गए हैं कि इन प्रत्याशियों के वाहन चुनाव प्रचार करते मिले तो उन्हें जब्त कर लिया जाए। प्रत्याशियों के खिलाफ मामला दर्ज कराने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है।

विधानसभा चुनाव में खर्च के लिए आयोग ने 28 लाख रुपये की सीमा तय की है। प्रत्याशियों को इस रकम के खर्च का तीन बार ब्यौरा प्रशासन को देना जरूरी है। एक फरवरी को पहली बार प्रत्याशियों से चुनाव खर्च का ब्यौरा लिया गया था। जिसमें 36 में से बीस प्रत्याशियों ने प्रशासन को यह ब्यौरा उपलब्ध कराया। हालांकि जांच के बाद प्रत्याशियों द्वारा सौंपे गए खर्च के ब्यौरे व प्रशासन द्वारा किए गए आंकलन में अंतर मिला।
पांच फरवरी को दूसरी बार प्रत्याशियों ने खर्च का ब्यौरा प्रशासन को सौंपा। जिसमें 23 प्रत्याशियों ने प्रशासन को यह ब्यौरा उपलब्ध कराया। लेकिन आठ प्रत्याशी ऐसे मिले जिन्होंने दोनों बार चुनाव प्रचार खर्च का ब्यौरा प्रशासन को नहीं सौंपा।

चुनाव आयोग के निर्देशों का उल्लंघन करने पर रिटर्निंग अफसर ने इन प्रत्याशियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है।
जिनके खिलाफ यह कार्रवाई की गई है उनमें किशोर सिंह , कृष्ण कांत सिंह , जावेद खान, कृष्ण पाल, प्रेम सिंह , विक्रम सिंह , विजय कुमार समेत आठ प्रत्याशी शामिल हैं।

रिटर्निंग ऑफिसर ने बताया चुनाव खर्च का ब्यौरा न देने पर प्रत्याशियों के प्रचार वाहनों की अनुमति को निरस्त कर दिया गया है। उनके खिलाफ मामला दर्ज कराने की कार्रवाई की जा रही है। प्रत्याशियों के प्रचार वाहन जब्त करने के लिए उड़न दस्ता को निर्देश दिए गए हैं।

Sharing is caring!