• Home »
  • अपराध »
  • 37 अरब ऑनलाइन फ्रॉड का मामला : एसटीएफ ने शिकायत के लिए ईमेल आईडी जारी की, देश भर से ले रही है फ्रॉड की जानकारी

37 अरब ऑनलाइन फ्रॉड का मामला : एसटीएफ ने शिकायत के लिए ईमेल आईडी जारी की, देश भर से ले रही है फ्रॉड की जानकारी

नोएडा : सात लाख लोगो से 37 अरब के फर्जीवाडे का खुलासा होने के साथ निवेशको की भीड सेक्‍टर-63 कंपनी के आफिस और सूरजपुर एसटीएफ आफिस पर इक्‍कठा होना शुरू हो गई है। वही बडी संख्‍या में ऐसे लोग भी जुटने लगे जो पुलिस की कार्रवाही को गलत बताकर शिकायतकर्ताओ बरगलाने में लगे है। इनसे निपटने के लिए एसटीएफ ने सुरजपुर कार्यालय में शिकायत कक्ष बनाने के साथ-साथ लोगो को अपनी शिकायत को दर्ज कराने के ईमेल आई डी reportfraud@upstf.com जारी की है जिस पर पीड़ित लोग अपनी शिकायत दर्ज करा सकते है।
STF
एसएसपी एसटीएफ अमित पाठक सारे मामले की गहनता से जांच कर रहे अधिकारियो का कहना है कि यह मामला इतना बडा है कि सारे मामले की बहुत सारी इन्‍वेटिगेशन की जानी है। उनका कहना है कि ये पैसे को रोटेट करने की इंटर सरकुर्लर स्‍कीम थी, जो मनी सकुर्लेशन एक्‍ट 1978 का वायलेशन है।

इस मामले में एसटीएफ ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए आज के कार्यवाही की जानकारी दी।

एस0टी0एफ0 गौतमबुद्धनगर द्वारा दिनांक 01-02-2017 को आॅनलाइन मनी सरकुलेशन रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए 03 सदस्योें को गिरफ्तार किया गया था। जिसके क्रम मेें 02 फरवरी 2017 को पे्रस विज्ञप्ति भी जारी की गयी थी।

आज 03-02-2017 को लगभग साढे छः लाख व्यक्तियोें के साथ धोखाधड़ी करके 37 सौं करोड़ रूपयोें से अधिक हड़पने के प्रकरण मेें निम्न कार्यवाहियाॅ की गयी हैं –

(1) भारतीय रिजर्व बैंक, सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड आॅफ इण्डिया, आयकर विभाग, प्रवर्तन निदेशालय, कस्टम एवं केन्द्रीय उत्पाद अभिसूचना निदेशालय, सीरियस फ्राॅड इन्वेस्टीगेशन आॅफिस,कारपोरेट मामलोें के मंत्रालय एवं राजस्व आसूचना निदेशालय को विस्तृत पत्र लिखकर इस घटना के तथ्यों से अवगत कराते हुए अपने स्तर से विधिक कार्यवाही करने हेतु अनुरोध किया गया है।

(2) इस क्रम मेें आयकर विभाग एवं सीरियस फ्राॅड इन्वेस्टीगेशन आॅफिस के अधिकारियोें द्वारा कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है।

(3) कंपनी के अभिलेखीय एवं डिजीटल साक्ष्योें को एकत्रित करके उनका परीक्षण कराने की कार्यवाही की गयी एवं जिले के अभियोजन अधिकारी तथा विवेचक के साथ मीटिंग करके कार्य योजना बनाई गयी है।

(4) इस स्क्रीम से जुडे़ हुए पीड़ित व्यक्तियोें द्वारा अपनी समस्या एवं शिकायत प्रेषित त करने हेतु ई-मेल आई0डी0 reportfraud@upstf.com बनाकर जारी की गयी ।

(5) इस केस से सम्बन्धित अन्य जनपदोें मेें दर्ज कराई जा रही प्रथम सूचना रिपोर्ट के बारे मेें जानकारी की गयी तो प्रकाश मेें आया है कि थाना इन्दिरापुरम जनपद गाजियाबाद मेें मु0अ0स0ं 147/17 धारा 406/506 भादवि का अभियोग पंजीकृत हुआ है। अन्य राज्योें मेें भी प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने की जानकारी प्राप्त हुई है। जिनका विवरण प्राप्त किया जा रहा है।

(6) इस केस से जुडी हुई वेवसाईट ‘‘सोशल ट्रेंड डाॅट बिज’’ को हटा लिया गया है ताकि इस प्रारूप के साथ कोई छेडछाड़ न कर
सके । इस कंपनी का मोबाइल एप भी बन्द करा दिया गया है।

(7) इस प्रकरण से जुडे़ कुछ तथ्य निम्नवत हैंः-

ए- इस कंपनी द्वारा साढे छः लाख निवेशकोें को पैसे के बदले पैसा देनेे की ही स्कीम बताई गयी थी, जो कि कंपनी के वेब पेज पर स्पष्ट लिखा हुआ था ‘‘LOW INVESTMENT PART TIME JOB’’। किसी भी दशा मेें यह बताया जाना कि इसमें लोगोें द्वारा पैसा न लगाकर सिर्फ बिजनेस ग्रुप द्वारा पैसा लगाया गया है। यह भ्रामक हैं।

बी- जनवरी माह से इस कंपनी द्वारा अधिकांश निवेशकोें के खाते मेें पैसा आना बन्द हो गया था।

सी- कंपनी के एकाउन्ट मेें निवेशकों के अलावा अपने उत्पाद को प्रमोट करने के उद्देश्य से किसी कंपनी द्वारा पैसा जमा कराये जाने के साक्ष्य प्रथम दृष्टया नही मिले हैं।

(8) इस कंपनी मेें पैसा लगाने वाले कुछ लोग देश के बाहर के हो सकते हैं, ऐसे प्रमाण प्रथम दृष्टया मिले हैं। एस0टी0एफ0 की उपरोक्त ई-मेल पर शिकायत प्राप्त होने पर विधिक कार्यवाही कराई जायेगी।