• Home »
  • राजनीति »
  • हार के बाद मुलायम ने तोड़ी चुप्पी, अखिलेश को ठहराया जिम्मेदार

हार के बाद मुलायम ने तोड़ी चुप्पी, अखिलेश को ठहराया जिम्मेदार

लखनऊ : आखिरकार मुलायम सिंह यादव ने हार के बाद अपने लखनऊ स्थित आवास पर मीडिया के सामने चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि कांग्रेस से यदि सपा का गठबंधन नहीं होता तो प्रदेश में हमारी सरकार होती।
mulayam akhilesh
उन्होंने हार का जिम्मेदार सीधे तौर पर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को ठहराया है। साथ ही कांग्रेस से गठबंधन के फैसले को गलत करार दिया । मुलायम सिंह यादव ने अपने पांच विक्रमादित्य मार्ग स्थित आवास से पत्रकारों से वार्ता की और कहा कि कांग्रेस से यदि सपा का गठबंधन नहीं होता तो प्रदेश में हमारी सरकार होती।

गठबंधन को सही ठहराने वाला झूठा है

उन्होंने कहा कि जो कोई भी इस गठबंधन को सही कह रहा था वह हकीकत में झूठ बोल रहा था। कांग्रेस को यूपी में कोई पसंद नहीं करता है, न ही इस गठबंधन की कोई जरूरत थी। वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में सपा अपने दम पर पूर्ण बहुमत से आई थी। गौरतलब है कि सपा अध्यक्ष बनते ही अखिलेश यादव ने कई फैसले लिए जिनमें कांग्रेस के साथ गठबंधन के फैसले की काफी आलोचना हुई। पार्टी संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने पूर्व में भी मीडिया के समक्ष ये बात कही थी कि पार्टी अकेले ही चुनाव जीत सकती है, इसे किसी के गठबंधन की जरूरत नहीं है। वहीं याद हो कि मतदान खत्म होने के बाद अखिलेश ने मायावती के साथ भी गठबंधन करने की संभावना जाहिर की थी।

घमासान के लिए अखिलेश जिम्मेदार

पिछले कुछ महीनों में पार्टी और परिवार में चल रही अंतरकलह के लिए भी मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश को जिम्मेदार ठहराया है। मुलायम ने इस हार की सबसे बड़ी वजह परिवारिक कलह को बताया। उन्होंने कहा कि इस घमासान के बाद लोगों ने सपा को वोट इसलिए नहीं किया क्‍योंकि इस दौरान उनका अपमान किया गया था। पार्टी में हुई जंग के बाद यही संदेश सपा कार्याकर्ताओं व जनता में पहुंचा था। उन्‍होंने आगे कहा कि यह भाजपा के लिए बहुत बड़ी जीत है, लिहाजा अाज उनका दिन है।

साधना के बयान पर दी प्रतिक्रिया

बीते दिनों मुलायम की दूसरी पत्नी साधना गुप्ता ने मीडिया में परिवारिक कलह, अखिलेश के गलत फैसले व नेताजी के अपमान पर बयान देकर राजनीतिक गलियारोंं में खलबली मचा दी थी। इस पर भी मुलायम सिंह यादव ने अपनी प्रति्क्रिया जाहिर की है। उनका कहना है कि साधना ने मीडिया में सामने आ कर कुछ भी गलत नहीं कहा। साधना ने बेहद सादगी से यही कहा था कि इस दौरान उनका अपमान किया गया। साधना ने किसी के खिलाफ कोई बयान नहीं दिया था। साधना ने सिर्फ इतना कहा कि उनका अपमान नहीं किया जाना चाहिए था।

हार के बाद अखिलेश को दी सलाह

2012 चुनाव में किए गए कैंपने को याद करते हुए उन्होंने कहा कि उस दौरान उन्‍होनें करीब 300 रैलियां की थीं, लेकिन इस बार उन्‍होंने केवल चार ही रैलियां की वह भी बेमन से। सपा की हार के बाद मुलायम ने अखिलेश से बातचीत पर कहा की अब वह क्‍या बोलेगा। अखिलेश को सलाह देते हुए कहा कि हार के बाद भी उन्‍हें जनता के बीच जाकर जनता को बधाई और धन्‍यवाद देना चाहिए।