• Home »
  • नोएडा/ग्रेनो »
  • बाराही मेला में क्षेत्र प्रतिभाओं का हुआ सम्मान, युवाओं को लुभा रहा है चौपाल में रखा 12 फुटा खाट

बाराही मेला में क्षेत्र प्रतिभाओं का हुआ सम्मान, युवाओं को लुभा रहा है चौपाल में रखा 12 फुटा खाट

ग्रेटर नोएडा : सूरजपुर में चल रहे ऐतिहसिक प्राचीन बाराही मेले में पांचवें दिन शिव मंदिर सेवा समिति द्वारा क्षेत्र की प्रतभाओं का सम्मान किया गया।
barahi pratibha samman
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एसडीएम सदर राजेश कुमार सिंह ने “गौरव-सम्मान” कार्यक्रम के तहत पारा रियो ओलिंपिक के गोल्ड मेडलिस्ट वरुण भाटी और क्षेत्र का नाम रोशन करने वाले बॉडीबिल्डर विकास भाटी को सम्मानित किया। इस मौके पर मुख्य अतिथि एसडीएम सदर राजेश कुमार सिंह ने कहा मेले में आयोजित कार्यक्रम हमें क्षेत्र की संस्कृति और अध्यात्म का झलक दर्शाती है।

विशिष्ट अतिथियों राजवीर सिंह लेखपाल, जिला बार एसोसिएशन गौतम बुध नगर के अध्यक्ष विपिन भाटी और पूर्व सचिव प्रमोद भाटी को शिव मंदिर सेवा समिति ने सम्मानित किया।

इससे पहले सांस्कृतिक मंच से राजस्थानी कलाकार, युवा कलाकार, रागिनि कलाकारों ने रंगारंग प्रस्तुती दी। राजस्थान से आये कलाकार कालबेलाई, कच्ची घोड़ी का बेहतरीन प्रदर्शन कर समां बांध दिया। इससे पहले रोजाना की तरह शिव मंदिर सेवा समिति के पदाधिकारियों ने भव्य आरती की। इसके पश्चात एमनाबाद से आये सिकंदर की तुम्बा पार्टी ने देशभक्ति व नागिन धुन सहित कई धुनें बजाकर लोगों का मनोरंजन किया ।

इसके बाद रागिनी कलाकार उत्तम शर्मा एंड पार्टी ने सांस्कृतिक मंच पर धूम मचाई। उत्तम शर्मा ने शिव भक्ति पर ये रागिनी सुनाई, “पूजा शिव के मंदिर में कैसे की जाती है , सागर से पार उतरने के लिए” सुन श्रोता भाव-विभोर हो गए।


barahi mela dance
मोनिका दिल्ली के डांस “जो छोरी कजरा लगवावेगी” और “मैं लूट गयी , लूट गयी” सुन युवा दर्शकों ने भी ठुमके लगाए।


सोनू नेकपुर ने महाभारत के कीचक-सुलोचना प्रसंग पर और सत्ते भाटी ने भजन सुना कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। इसके अलावा सोनू सम्राट के गए रागिनी “क्या बोलू भरतार तेरे हे” और सुषमा नेकपुर द्वारा “बेटी -बचाओ बेटी पढ़ाओ” पर आधारित ये रागिनी गाई गई “अधिकार मेरे जिने का क्यों छीन लिया महतारी, जग में आने से पहले हत्या कर दी हमारी”, दर्शकों द्वारा पसंद किया गया।

देशपाल सिंह मिलक ने बाराही माता का भजन सुनाया , ” ओ सूरजपुर की बाराही माँ, कर दिया जग में नाम, हो पूजा तेरी माँ मंदिर में सुबह शाम ” सुन भक्तों ने बाराही माता का जयघोष किया।


khat
मीडिया प्रभारी मूल चंद शर्मा ने बताया चौपाल में गेहूँ ढोने वाली बैलगाड़ी, प्राचीन हुक्का, दूध औंटने वाला राहा, खेत जोतने वाला हल, चूल्हा, दूध मथने वाली रई और 12 फुट लम्बा एवं 6 फुट चौड़ा खाट रखा गया है। 12 फूटा खाट सभी को बरबस अपनी ओर आकर्षित कर रहा है। खाट देखकर लोगों के कदम खुद ब खुद चौपाल की ओर बढ़ जाते हैं। युवा खाट पर बैठकर मोबाईल कैमरे में अपने फोटो कैद कर रहे हैं। मूल चंद शर्मा बताते हैं प्राचीन समय में लोगों की लंंबाई 7 से 8 की होती थी इसी लिए उस समय खाट भी 12 -12 फुट के बनाये जाते थे। समिति का प्रयास है लोग अपने ऐतिहासिक धरोहर को जाने और युवा पीढ़ी गांव घर से विलुप्त हो रही वस्तुओं से रूबरू हो।

इस अवसर पर श्री धर्मपाल भाटी, ओमवीर सिंह बैसला, मूलचंद शर्मा, लक्षमण सिंघल, ज्ञानेंद्र देवधर, योगेश अग्रवाल, पवन जिंदल, हरिकिशन, सतपाल शर्मा, सुनील शर्मा, सुभाष शर्मा, भीम खारी आदि मौजूद रहे।