• Home »
  • नोएडा/ग्रेनो »
  • बाराही मेला में विशाल ईनामी दंगल में पहलवानों ने की जोर अजमाइश : बराबरी पर छूटी 2 1 हज़ार की दंगल की सबसे बड़ी कुश्ती

बाराही मेला में विशाल ईनामी दंगल में पहलवानों ने की जोर अजमाइश : बराबरी पर छूटी 2 1 हज़ार की दंगल की सबसे बड़ी कुश्ती

ग्रेटर नोएडा। सूरजपूर में चल रहा 11 दिवसीय ऐतिहासिक बाराही मेला का समापन हो गया।आखिरी दिन शाम में हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी स्वर्गीय जयपाल भगत जी के स्मृति में उनके सुपुत्र श्रीचंद भाटी ,सतबीर भाटी व राजवीर भाटी के सौजन्य से कुश्तियों का विशाल ईनामी दंगल का आयोजन किया गया। जिसमे 21 हज़ार की कुश्ती -अनुज पहलवान प्रकाश अखाड़ा और अमित पहलवान गुरु हनुमान अखाड़ा दिल्ली बीच बराबरी पर छूटी।
PAHLWAN
इससे पहले दंगल का उद्घाटन प्रकाश अखाड़ा लखनावली के गुरु प्रकाश पहलवान ने पहलवानो का हाथ मिलाकर किया। इस मौके पर उन्होंने कहा दंगल हमारे देश की विरासत है। शिवमंदिर सेवा समिति बधाई की पात्र है वो इस विरासत को आगे बढ़ा रही हैं। मेले के मीडिया प्रभारी मूलचंद शर्मा ने बताया दंगल में उत्तरप्रदेश, हरियाणा, दिल्ली एनसीआर के लगभग 250 से ज्यादा पहलवानों ने भाग लिया जिनकी आयु 12 वर्ष से लेकर 40 वर्ष थी। यह ईनामी दंगल 101 रूपये से लेकर 51 हजार तक का रखा गया था। i दंगल में रेफरी की भूमिका में रवि गुर्जर कोच और वनोद भाटी खलीफा थे। शुरूआती दौर में 10 वर्ष तक के बच्चों के हौसला हफजाई के लिए लगभग 50 कुश्ती आयोजित की गयी। जिसमे प्रिंस पहलवान डेरी स्कनर, मोहसीन सिकरोड़ा, मोहित जलपुरा, पियूष भाटी डेरी स्कनर ने अपने प्रतिद्वंदीयों को अच्छी पटकनी दी।
DANGAL
इसके अलावा शुरुआती कुश्ती में रोहित पहलवान गढ़ी, आकाश डगरपुर, रेहान सिकंदराबाद, अंकित पहलवान बम्बावाड़, काले जगनपुर, आकाश पहलवान घोड़ी बछेड़ा, साबिर पहलवान सिकंदराबाद, मुकुल पहलवान जमालपुर का बेहतरीन प्रदर्शन रहा। सबसे रोमांचक कुश्ती कृष्णा पहलवान गुरु प्रकाश अखाड़ा और सिंटू पहलवान सोरखा के बीच रहा जिसमे कृष्णा पहलवान को विजेता घोषित किया गया।

अंत में बड़ी कुश्तियों के क्रम में 5100 की दो कुश्ती आयोजित की गयी जिसमे गुरु हनुमान अखाड़ा के सुखचैन और उपकार प्रकाश अखाड़ा के बीच बराबरी पर छूटी। 5100 की दूसरी कुश्ती में चांगदीराम अखाड़ा दिल्ली के आसिफ ने देवा झज्झर हरियाणा को हराया। 11 हज़ार की कुश्ती विनोद भाटी पहलवान प्रकाश अखाड़ा ने अलीम पहलवान पलवल को पटकनी देकर जीत ली।

अंत में इस विशाल दंगल की सबसे बड़ी 21 हज़ार की कुश्ती अनुज पहलवान प्रकाश अखाड़ा और अमित पहलवान गुरु हनुमान अखाड़ा दिल्ली बीच लड़ी गई। रोमांचक रहे इस कुश्ती का कोई नतीजा नहीं निकला और बराबरी पर छूटी।

इधर सांस्कृतिक मंच पर रागिनी कलाकारों ने प्रस्तुति दी। जयवीर भाटी एवं सनोज मिलक एंड पार्टी के कलाकारों ने महाभारत के विभिन्न प्रसंगों और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर रागिनी सुनाई। रागिनी कलाकार जयवीर भाटी ने सुनाया “बेटी है तो दुनिया में सबको समझाने भारत में, भ्रूण हत्या महापाप है दोष मिटाए भारत में ” सुन दर्शकों ने खूब तालिया बजाई। रागनी कलकार नीरज भाटी घरबरा ने द्रौपदी चिर हरण पर ये सुनाया ” तार के साडी नाचना होगा अंधे की इस महफ़िल में ” और मनोज चौधरी का गाया “चोरी का धन ओश का पानी के बादल की छाया, के पैसा की प्रीत जगत में के सपने की माया” रागिनी सुनाई। राहुल बालियान और प्रियंका चौधरी का नागिन -सपेरे पर किया गए डांस पर युवा दर्शकों ने भी ठुमके लगाए।

आखिरी दिन मेले को देखने रिकार्ड तोड़ भीड़ उमड़ी। दूर दराज क्षेत्र से जनसैलाब मेला देखने पहुचा। लोगों ने झूला, सर्कस, जादूगर शो, कठपुतली शो, कला और उनके हैरतअंगेज कारनामे का लुत्फ उठाया। अंत में रंगीन आतिशबाज़ी के साथ मेले का समापन हो गया। इस मौके पर बाराही देवी मंदिर के महंत ब्रह्मगिरि, शिव मंदिर सेवा समिति के अध्यक्ष धर्मपाल भाटी, महासचिव ओमवीर बैसला , मूलचंद शर्मा , लक्षमण सिंघल, डॉ. ईश्वर सिंह देवधर, विनोद सिकन्दराबादी, श्रीचंद भाटी , सतवीर भाटी, राजवीर भाटी, अनिल भाटी, भोपाल ठेकेदार, पवन जिंदल, योगेश अग्रवाल, जगदीश भाटी, सतपाल शर्मा, सुनील शर्मा, बिजेंद्र ठेकेदार, बिजेंद्र आर्य, विनोद पंडित आदि मौजूद रहे।