करोड़ों लेकर भागा बिल्डर तो सड़क पर उतरे बायर्स

ग्रेटर नोएडा : सूरजपुर साईट – सी के एक बिल्डर पर बायर्स के पैसे लेकर भागने का आरोप है। आरोप है कि बिल्डर 350 बायर्स के लगभग 100 करोड़ रुपये की रकम लेकर फरार हो गया है। बिल्डर ने 2014 में फ्लैट का पजेशन देने का वादा किया है, लेकिन अभी तक साइट पर सिर्फ civil structue वो भी आधा-अधूरा खड़ा है। बायर्स का कहना है कि बिल्डर अपने किसी पते पर नहीं मिल रहा है। आज लगभग 100 के करीब बायर्स ने कलक्ट्रेट सूरजपुर में बिल्डर खिलाफ प्रदर्शन करते हुए न्याय की गुहार लगाई।

यूपीएसएडीसी ने एलप्पाईंन रियलटेक को साईट – सी में बिल्डर ३ एकड़ प्लॉट अलॉट किया था। बिल्डर ने इस पर वर्ष 2012 में “EKDANT FNG” प्रोजेक्ट लॉन्च किया था। इसमें 5 टावर बनाए जाने थे। बायर राजेश कुमार, राजीव कुमार, अंकित सिरोही, सुनील अग्रवाल आदि का आरोप है कि बिल्डर ने लुभावने विज्ञापन देकर 2012 में फ्लैटों की बुकिंग करने के बाद साल अंत में साइट पर निर्माण कार्य शुरू कर दिया । लगभग 90 फीसदी बायर्स ने 100 प्रतिशत अपनी किश्त जमा करा दी। जनवरी 2015 में बिल्डर ने अचानक बीच में ही काम रोक दिया। बिल्डर का पता नहीं चल रहा है। साइट ऑफिस खाली है।
इन लोगों का कहना है कि जब यहां बिल्डर नहीं मिला तो वे लोग उसके बताए दिल्ली के पते पर गए तो वहां भी कोई नहीं मिला। इस मामले में पीड़ित बायर्स की एकदांत वेलफेयर सोसाइटी ने बिल्डर के खिलाफ एसएसपी के यहाँ आर्थिक अपराध शाखा में केस दर्ज कराया है । आज बायर्स डीएम ऑफिस ग्रेटर नोएडा पहुंचे और सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौपते हुए त्वरित कार्यवाही की मांग की । बायर्स की मांग है कि उन्हें फ्लैट कम्पलीट कर दिया जाये नहीं तो पैसा वापस करवाया जाये । इधर सिटी मजिस्ट्रेट ने यूपीएसआईडीसी के महाप्रबंधक को इस बाबत लिखा है। एकदान्त वेलफयर सोसाइटी के अध्यक्ष राजेश रकुमार ने बताया बिल्डर का यूपीएसआईडीसी पर 10 करोड़ और बैंक पर 65 करोड़ का बकाया है। अधिकतर बायर्स नौकरी करने वाले या रिटायर्ड लोग हैं। बिल्डर की कारस्तनी से सभी बायर्स लूट चुके है और सड़क पर आ गए हैं।