• Home »
  • नोएडा/ग्रेनो »
  • यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ से मिले ईस्टर्न पेरीफेरल के किसान, समस्या समाधान का मिला आश्वासन

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ से मिले ईस्टर्न पेरीफेरल के किसान, समस्या समाधान का मिला आश्वासन

ग्रेटर नोएडा : मुख्यमंत्री ने किसानों से अपील की है कि वह अपनी मांगों को लेकर ईस्टर्न पेरिफेरल हाईवे का निर्माण कार्य बंद न करें। वह अपनी शिकायत जिलाधिकारी से करें। मुख्यमंत्री कार्यालय के दरवाजे भी किसानों के लिए खुले हैं। उन्होंने केंद्रीय मंत्री से भी किसानों की बैठक कराने का आश्वासन दिया। लखनऊ में आयोजित किसानों की बैठक में मुख्यमंत्री ने ईस्टर्न पेरिफेरल के प्रभावित किसानों को मुआवजा व अन्य मांगों को पूरा कराने का आश्वासन दिया। बैठक में जिलाधिकारी एनपी ¨सह व राष्ट्रीय राज मार्ग प्राधिकरण के अधिकारी भी मौजूद रहे।
farmers
उन्होंने किसानों से कहा कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में गुड़गांव से अधिक निवेश की संभावनाएं ग्रेटर नोएडा में हैं। किसान औद्योगिक निवेश बढ़ाने में पूरा योगदान दें। ऐसा माहौल बनाए कि अधिक से अधिक लोग यहां निवेश के लिए आगे आए। इससे क्षेत्र के विकास के साथ रोजगार मुहैया होंगे। उन्होंने पेरिफेरल के किसानों को आश्वासन दिया कि नई जमीन अधिग्रहण होने पर उन्हें नए कानून के तहत मुआवजा मिलेगा। जिन किसानों की जमीन पहले अधिग्रहीत हो चुकी है, उनमें कई किसान कोर्ट चले गए हैं। उन्होंने बैठक में मौजूद राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों एवं डीएम एनपी ¨सह को निर्देश दिए हैं कि वह विधिक दायरे में आपसी सहमति बनाकर निस्तारण का प्रयास करें। राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि जिन किसानों की जमीन पेरिफेरल हाईवे के लिए अधिग्रहीत हुई है, उन्हें टोल से छूट देने के लिए जरूरी प्रावधान करें। उन्होंने कहा कि पेरिफेरल हाईवे के निर्माण से जिन गांवों का आवागमन प्रभावित होगा, उनके आवागमन के लिए सर्विस रोड बनाई जाए।

जमीन अधिग्रहण की वजह से बड़े पैमाने पर किसानों का पारंपरिक रोजगार खेती समाप्त हो चुका है। उनके सामने रोजी रोटी का संकट है। पेरिफेरल हाईवे के किसानों ने मुख्यमंत्री के सामने रोजगार का मुद्दा उठाया। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने किसानों की ¨चता से सहमति जताते हुए कहा कि प्रदेश सरकार जल्द ही नोएडा, ग्रेटर नोएडा एवं यमुना प्राधिकरण के किसानों के लिए पॉलिसी लाने जा रही है। जिन किसानों की जमीन पर औद्योगिक इकाइयां स्थापित होंगी। उनमें प्रभावित किसानों, उनके बच्चों को योग्यता के आधार पर नौकरी देने का प्रावधान किया जाएगा। इससे किसानों की रोजगार की समस्या दूर होगी।

किसान नेता सुनील फौजी ने बताया मुख्यमंत्री ने किसानों की समस्याओं को गंभीरता से सुना और उनके समाधान के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। उन्होंने किसानों की मांगों से सहमति जताई है। मुख्यमंत्री से मिले आश्वासन से किसान संतुष्ट हैं।