नौ कुंडीय गायत्री महायज्ञ एवं संस्कार महोत्सव का आयोजन

ग्रेटर नोएडा । सेक्टर अल्फा-एक सी ब्लॉक मंदिर के सामने नौ कुंडीय गायत्री महायज्ञ एवं संस्कार महोत्सव का आयोजन गायत्री तीर्थ शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वावधान में गायत्री प्रज्ञा विस्तार केन्द्र स्वर्ण नगरी के मार्गदर्शन में आयोजित किया गया, जिसमें सेक्टर के लोगों ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया।
gaytri
नौ कुण्डीय प्रदीप रॉव और आर.एन. सिंह के देख-रेख में किया गया। यत्र के दौरान लोगों को बताया गया कि सभी को अपने व्यस्ततम समय में कम से कम आधा घंटा ध्यान के लिए निकालना चाहिए, मनुष्य का जन्म इस पृथ्वी पर आनन्द के लिए हुए हैं। इस अवसर पर यज्ञ में शामिल लोगों को बताया गया कि यज्ञ भारतीय धर्म का मूल है। आत्म-साक्षात्कार, स्वर्ग-सुख, बन्धन-मुत्ति, मन, पाप-प्रायश्चित, आत्म-बल वृद्धि और ऋषि-सिद्धियों के केन्द्र भी यज्ञ ही थे। यज्ञों द्वारा मनुष्य को अनेक आध्यात्मिक एवम् भौतिक शुभ परिणाम प्राप्त होते हैं। जन्म से लेकर अन्त्येष्टि तक 16 संस्कार होते हैं इनमें अग्रिहोत्र आवश्यक है। जब बालक का जन्म होता है तो उसकी रक्षार्थ सूतक-निवृत्ति तक घरों में अखण्ड अग्नि स्थापित रखी जाती है। नामकरण, यज्ञोपवीत, विवाह आदि संस्कारों में भी हवन अवश्य होता है। इस अवसर पर डी.आर. सिंह पुष्पा सिंह, नूतन गौतम, शैलेन्द्र सिंह सहित पूरा गायत्री परिवार मौजूद रहा।

Sharing is caring!