• Home »
  • शिक्षा »
  • गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में लघु अवधि प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में लघु अवधि प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत

ग्रेटर नोएडा : साप्तहिक लघु अवधि प्रशिक्षण कार्यक्रम का भव्य उद्घाटन दीप प्रज्वलन व् गौतम बुद्ध की प्रार्थना द्वारा सोमवार को हुआ । कार्यक्रम की अध्यक्षता मनोज कुमार राय (रजिस्ट्रार जी. बी. यू) व प्रो अनिल कुमार गौतम, डीन स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड आई. सी. टी ने की व् बताया एक तकीनीक शिक्षक को सैद्धांतिक से ज्यादा व्यावहारिक ज्ञान होना चाहिए। लघु अवधि प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन स्कूल ऑफ़ आई.सी.टी, गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के द्वितीय सभागार मे कराया जा रहा है।
gbu
कार्यक्रम मे पूरे देश के विभिन्न राज्यों के सूचना और प्रौद्योगिकी क्षेत्र से जुड़े 200 से अधिक शिक्षक, शोधार्थी, शिक्षाविद, सूचना और प्रौद्योगिकी पेशेवर व् इंजीनियर्स भाग लेने पहुंचे । कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रो. के. के. अग्रवाल चांसलर, के.आर. मंगलम विश्वविद्यालय गुड़गांव, और संस्थापक कुलपति आईपी यूनिवर्सिटी दिल्ली ने बताया की कैसे भारत इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र मे विश्व के अग्रणी देशों को मात कर रहा है, वो युग दूर नहीं जब इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेस खुद ही एक दुसरे को काम करने के लिए आदेशित करेंगी। बीस वर्षों बाद मोबाइल की बैटरी खुद ही रेडिएशन्स से चार्ज हो जाएगी बिना किसे चार्जर के उपयोग के। कार्यक्रम की संयोजक डॉ. नीता सिंह व् डॉ. विदुषी शर्मा ने बताया की इस लघु अवधि प्रशिक्षण कार्यक्रम का मूल उद्देश्य आईटी पेशेवरों, इंजीनियर्स, संकाय सदस्यों और शोधकर्ताओं के बीच सूचना और संचार प्रौद्योगिकी तकनीक के विकास को बढ़ावा देना व् प्रोत्साहित करना है। श्रीमती आरती गौतम दिनकर ने कार्यक्रम को कॉर्डिनेटर किया। मीडिया कॉर्डिनेटर श्री गौरव तिवारी ने बताया की कार्यक्रम मे प्रो. डी. आर. भास्कर (दिल्ली प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, नई दिल्ली),प्रो. श्वेता आनंद, डॉ. कृति प्रिया, डॉ. राखी, प्रो.ऍम ऍम सुफ़यान बेग, डॉ. शबाना उरूज, डॉ. राजेश मिश्र , डॉ. गुरजीत कौर , डॉ. नावेद रिज़वी, डॉ. संदीप शर्मा, डॉ. प्रदीप तोमर, डॉ. आर बी सिंह, श्री दीपक पवार, डॉ. त्रिपाठी, डॉ. बघेल सहित स्कूल ऑफ़ आई सी टी के कई शिक्षक मौके पर मौजूद रहे, कार्यक्रम शिक्षण कार्य मे एक नयी अभिरुचि उत्पन्न करेगा व् कार्यक्रम का समापन ४ फरवरी को होगा ।

Sharing is caring!