• Home »
  • शिक्षा »
  • आईटीएस डेंटल कालेज ग्रेटर नोएडा के छात्रो का वर्चस्व कायम

आईटीएस डेंटल कालेज ग्रेटर नोएडा के छात्रो का वर्चस्व कायम

ग्रेटर नोएडा : आई0टी0एस0 डेंटल काॅलेज के आई0टी0एस0 सेंटर फाॅर क्लीनिकल एक्सीलेंस द्वारा ‘‘ओरल इम्पलांटोलोजी’’ पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।
its

कोरिया की मशहूर कम्पनी डेंशियम इम्पलांट की सहायता से आयोजित इस कार्यशाला में पूरे भारत से लगभग 100 से अधिक दंत चिकित्सक और विद्यार्थियों ने भाग लिया।
इस कार्यशाला के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में संस्थान के प्रधानाचार्य डाॅ पुनीत आहुजा ने बताया कि आई0 टी0 एस0 – द एजुकेशन ग्रुप द्वारा संचालित संस्थान आई0 टी0 एस0 डेंटल काॅलेज, ग्रेटर नोएडा के बी0डी0एस0 के विद्यार्थियांे ने चै0 चरण सिंह विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित बी0डी0एस0 प्रथम, द्धितीय, तृतीय तथा चतुर्थ वर्ष की परीक्षाओं में अपनी प्रतिभा का फिर से लोहा मनवाते हुए संस्थान के कुल उन्नीस विद्यार्थियों ने नवंम्बर 2016 में आयोजित बी0डी0एस0 की परीक्षा में शीर्ष दस मे अपनी जगह बनाई है।
संस्थान के प्रधानाचार्य डाॅ पुनीत आहुजा ने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित बी0डी0एस0 प्रथम, द्धितीय, तृतीय तथा चतुर्थ वर्ष की वार्षिक परीक्षा नवंम्बर 2016 के घोषित परीक्षाफल के आधार पर विश्वविद्यालय की बी0डी0एस0 प्रथम वर्ष की वरीयता सूची में फारूख मसुदी को प्रथम तारलिका केडिया को द्वितीय, साक्षी सिंह को छठवा, इवा जैन को आठवां, अस्मिता जिंदल को नौवां तथा अनुश्री को दसवा स्थान प्राप्त हुआ है।
बी0डी0एस0 द्धितीय वर्ष में रिदम वत्रा को दुसरा, अनिशा झा को पाचवां अपुर्वा को छठा आसी भारद्धाज को आठवां तथा अनमोल खन्ना को नौवां स्थान प्राप्त हुआ।
बी0डी0एस0 तृतीय वर्ष में आयुशी संगल को प्रथम, रिविका जाॅनसन को चर्तुथ इसिता सेठी को सातवां तथा साजिदा बेगम को आठवां स्थान प्राप्त हुआ।
बी0डी0एस0 चतुर्थ वर्ष में पलक जैन को तीसरा, मीनू परिहार को चैथा तथा अनाखा अशोक को दसवां सथान प्राप्त हुआ।
डॅा. आहुजा ने कहा कि संस्थान के उपरोक्त सभी विधार्थियो ने विश्वविधालय की वरीयता सूची की शीर्ष दस में अपनी जगह पक्की कर संस्थान के गौरव को काफी आगे बढाया है।
विद्यार्थियोे की इस उपल्ब्धि पर संस्थान ने विद्यार्थियोे कोे नगद पुरूस्कार एवं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।
छात्रों ने अपनी इस उपलिब्ध का श्रेय संस्थान के शिक्षको के पठन पाठन के तरीको और प्रबंधन समिति के द्वारा उपलब्ध कराये गये संसाधनो को दिया।
विद्यार्थियोे की विशेष उपलब्धि पर आई0 टी0 एस0 द एजूकेशन ग्रुप के अध्यक्ष डॅा.आर.पी.चड्ढा, उपाध्यक्ष श्री सोहेल चडढा, निदेशक डॅा. अक्षय भार्गव प्रधनाचार्य डॅा. पुनीत आहूजा ने उक्त सभी विधार्थियो ओर शिक्षको को बधाई देते हुुए विश्वास व्यक्त किया कि अपनी कठोर मेहनत के बल पर संस्थान के विद्यार्थी भविष्य में भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाऐगें।
कार्यशाला में दंत चिकित्सा के क्षेत्र में हो रही नई – नई तकनीकियों के बारे में विशेषज्ञों द्वारा जानकारी दी गयी जिसमें प्रमुख रूप से डाॅ0 तुषार चावला का व्याख्यान रहा। जिसमें डाॅ0 चावला ने बताया कि मुख गुहा के अंदर निकले हुए दांतों के स्थान पर बिना हड्डी के भी दंत प्रत्यारोपण ’’डेंटल इम्पलांट’’ कैसे करें। उन्होने सर्जरी के विभिन्न नवीनतम तरीकों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि अब जहां पर मुख गुहा के अंदर अगर जबडे की हड्डी कम भी हो तो इस तकनीक द्वारा क्रतिम दंत प्रत्यारोपण किया जा सकता है।
आई0टी0एस0 डेंटल काॅलेज के प्रोस्थोडोंटिक्स विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ0 अमित जयना ने इस बात की जानकारी दी कि मुख गुहा के अंदर जिस स्थान पर डेंटल इम्पलांट करते हैं वहां पर हड्डियों को कैसे विकसित किया जाये।
कार्यशाला में बडे रोचक तरीके से डॅा. अक्षय भार्गव ने बकरे के मौखिक गुहा में दंत प्रत्यारोपण करके सभी चिकित्सकों को दिखाया गया। उन्होने अपने संवादन में इम्पलांट के लिये की जाने वाली विभिन्न सर्जिकल तरीकों के बारे में जानकारी दी।
कार्यशाला के सफल आयोजन के लिये आई0टी0एस0 – द एजेकेशन ग्रुप के उपाध्यक्ष श्री सोहिल चड्ढा ने आयोजकों की पूरी टीम को बधाई देते हुए कहा कि संस्थान का हमेशा से यही प्रयास रहा है कि दंत चिकित्सकों और विद्यार्थियों को आधुनिक तकनीकों की जानकारी दी गयी जिससे मरीजों को अधिकतम लाभ मिल सके।
इस अवसर पर संस्थान के निदेशक डॅा. अक्षय भार्गव ने कहा कि यह वर्कशाॅप संस्थान द्वारा गठित आई0टी0एस0 सैंटर फाॅर एक्सीलेंस द्वारा आयोजित की गइ है। भविष्य में चिकित्सकों और विद्यार्थियों को दंत चिकित्सा क्षेत्र की आधुनिक जानकारी उपलब्ध कराने हेतु इस प्रकार की कार्यशाला का आयोजत किया जाता रहेगा। भविष्य में भी संस्थान द्वारा अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त दंत चिकित्सकों द्वारा कार्यशालाओं का आयोजन किया जायेगा।
संस्थान के प्रधानाचार्य डाॅ0 पुनीत आहुजा ने आयोजित कार्यशाला पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि इससे चिकित्सकों को दंत चिकित्सा के क्षेत्र में आधुनिक तकनीकों का पता चलेगा जिससे उन्हे मरीजों का इलाज करने में काफी सुविधा होगी। इस वर्कशाॅप के माध्यम से चिकित्सकों को अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी की मदद से काफी फायदा होगा।
कार्यशाला में भाग लेने आये सभी चिकित्सकों ने इस पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि इस कार्यशाला से उन्हे काफी कुछ सीखने को मिला है। जिससे वे मरीजों का इलाज आसानी से कर पायेंगे।