ग्रेटर नोएडा : आठ बिल्डरों को आवंटन रद्द करने का अंतिम नोटिस जारी

ग्रेटर नोएडा : प्लाट लेने के बाद निर्माण नहीं करने वाले बिल्डर का अलॉटमेंट रद्द होगा। आज ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने आठ बिल्डरों को आवंटन रद्द करने का अंतिम नोटिस जारी किया है। इन बिल्डरों ने निर्माण नहीं कराया है। साथ ही किश्त भी जमा नहीं कर रहे है। 15 दिन के अंदर नोटिस का जवाब नहीं देने पर आवंटन रद्द किया जाएगा।

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण लंबे समय से बिल्डरों को रियायत देता आ रहा है। उसके बाद भी बिल्डर अपनी मानमानी से बाज नहीं आ रहे है। कई बिल्डरों ने भूखंड का आवंटन कराने के बाद वहां अभी तक निर्माण कार्य शुरू नहीं किया है। प्राधिकरण ऐसे बिल्डरों को चिन्हित कर रहा है। पिछले माह सात बिल्डरों को आवंटन रद्द करने का अंतिम नोटिस जारी किया गया था। उसके बाद गुरुवार को प्राधिकरण ने ग्रेटर नोएडा वेस्ट के आठ और बिल्डरों को नोटिस जारी किया है। इन बिल्डरों को वर्ष 2011 से 2013 के बीच भूखंडों का आवंटन किया गया था। किसी ने भी निर्माण कार्य शुरू नहीं किया है। साथ ही तीन से अधिक किश्त जमा नहीं की है। इन सभी बिल्डरों को पहले भी कई बार किश्त जमा और निर्माण कार्य शुरू कराने का नोटिस भेजा जा चुका है। यह अंतिम नोटिस होगा। जिसका 15 दिन के अंदर जवाब देना होगा। जवाब और किश्त नहीं देने पर इन बिल्डरों के भूखंड का आवंटन रद्द कर दिया जाएगा।

50 एकड़ जमीन मिलेगी वापस

इन आठ बिल्डरों का आवंटन रद्द होने पर प्राधिकरण को करीब 50 एकड़ जमीन वापस मिलेगी। जिसे प्राधिकरण फिर से बेच सकेगा। वहीं बिल्डरों की जमा आवंटन धनराशि का जब्त कर लिया जाएगा। जिससे प्राधिकरण को 70 करोड़ रुपये मिलेंगे। प्राधिकरण अफसरों का कहना है कि बिल्डर मौके पर निर्माण शुरू करने से पहले ही फ्लैटों की बिक्री शुरू कर देते है। खरीददार इन बिल्डरों के यहां नहीं फंसे, इसको ध्यान में रखकर यह कार्रवाई की जा रही है।