• Home »
  • UP ELECTION 2017 »
  • चुनाव प्रचार के अंतिम दिन धीरेन्द्र सिंह (जेवर भाजपा प्रत्याशी ) के समर्थन में राजनाथ सिंह की महारैली : मुसलमानो की भीड़ में देख कर खुश हुए

चुनाव प्रचार के अंतिम दिन धीरेन्द्र सिंह (जेवर भाजपा प्रत्याशी ) के समर्थन में राजनाथ सिंह की महारैली : मुसलमानो की भीड़ में देख कर खुश हुए

ग्रेटर नोएडा : आज गुरुवार को प्रथम चरण का चुनाव प्रचार थम गया। आज प्रचार के अंतिम दिन प्रत्याशियों ने चुनाव प्रचार करने में जोर लगा दिया। रबूपुरा में गृह मंत्री राजनाथ सिंह जेवर से भाजपा प्रत्याशी धीरेन्द्र सिंह के समर्थन में महारैली की।
rajnath
जनसभा में मुस्लिम समुदाय की अपार भीड़ देखकर वो खुश हुए। उन्होंने कहा सारी पार्टियां मुसलमानों को डराकर रखना चाहती हैं। भाजपा के खिलाफ मुसलमानों में भय पैदा करके रखा गया है। मैं आज रबुपुरा में देख रहा हूं, यहां मिनी हिन्दुस्तान नजर आ रहा है। यहां बड़ी संख्या में मुसलमान भाई बैठे हैं। सपा, बसपा और कांग्रेस वाले आकर देखें तो हकीकत का पता चल जाएगा। भाजपा ने कभी समाज को बांटने का काम नहीं किया है। उन्होंने धीरेन्द्र सिंह के समर्थन में लोगों से वोट माँगा।

राजनाथ सिंह ने कहा, सपा-बसपा मिलकर समाज को जाति और धर्म के नाम पर बांट रहे हैं। लोगों को आपस में लड़ाकर बस किसी भी तरह सत्ता में बना रहना चाहते हैं। अगर यूपी की तकदीर बदलनी है तो इस बार भारतीय जनता पार्टी को वोट दीजिए।

राजनाथ सिंह ने कहा, मैं कहता हूं कि भारत पर हमले करने वाला पाकिस्तान देख ले यहां उनसे ज्यादा मुसलमान रहते हैं। दुनिया को कोई ऐसा मुल्क नहीं है, जिसमें मुसलमान संप्रदाय के सभी 72 फिरके हों, ऐसा अकेला भारत है। जनसभा में रबुपुरा के हाजी नसीम को खास जगह दी गई। राजनाथ सिंह ने भाषण शुरू करते हुए सबसे पहले उनका नाम लिया। राजनाथ सिंह ने कहा, अगर यूपी में भाजपा की सरकार बनी तो किसानों के लिए सबसे ज्यादा काम करेगी। तीन से छह महीनों में किसानों के सारे फसली कर्जों को माफ कर दिया जाएगा। किसानों को बिना ब्याज कर्ज देंगे। कम से कम पहले साल कोई ब्याज नहीं लिया जाएगा। अगर किसान एक साल में कर्ज नहीं लौटा पाएगा तो दूसरे और तीसरे साल में उससे केवल दो फीसदी ब्याज लिया जाएगा। गृह मंत्री ने कहा, अखिलेश यादव पांच वर्ष तक मुख्यमंत्री रहे। अब जब चुनाव आ गया तो कह रहे हैं चाचा, पिताजी और भाईयों ने काम नहीं करने दिया। अब एक मौका और दे दो। ये कौन सा नियम है कि आप सीएम रहकर काम नहीं कर पाए और आपको को यह बात पांच साल बाद समझ में आई है। अब सजा का वक्त है, मौका देने का नहीं है।