• Home »
  • शिक्षा »
  • IIMT में आयोजित स्‍टार नाइट में सुखदीप सिंह उर्फ सुख-ई के गीतों पर जमकर झूमे लोग

IIMT में आयोजित स्‍टार नाइट में सुखदीप सिंह उर्फ सुख-ई के गीतों पर जमकर झूमे लोग

ग्रेटर नोएडा। काली काली आखां, काले काले शू फेम वाले सिंगर सुखदीप सिंह उर्फ सुख-ई और उनके म्‍यूजिकल बैंड ने आईआईएमटी में आयोजित स्‍टार नाइट में कॉलेज समूह के पुराने और वर्तमान विद्यार्थियों को झूमने के लिए मजबूर कर दिया। इसके पहले कॉलेज में पूर्व विद्यार्थियों का मिलन समारोह का अयोजन‍ किया गया। उन्‍होंने फन गेम्‍स, फैशन शो में हिस्‍सा लिया और रंगारंग कार्यक्रमों का जमकर आनंद उठाया।
IIMT STAR NIGHT
कॉलेज परिसर में आयोजित स्‍टार नार्इट में सुखदीप सिंह के कुडी कैंदी पहले जैगवार ले लो, काली काली एैन पै काले काले शू, मैनु शो लग तेरी कुज करदा नहीं… इत्‍यादि गानों पर पूर्व और वर्तमान विद्यार्थी जमकर थिरके। इस दौरान डीजे की रंगीन लाईटों से चकाचौध मंच पर सुखदीप के पहुंचते ही छात्र छात्राओं ने सीटियां बजानी शुरू कर दीं और सेल्‍फी लेने की होड़ लग गयी। स्‍टार नार्इट में 4500 छात्र छात्राओं ने वन्‍स मोर वन्‍स मोर कहकर सुख-ई को कई गीत गाने को मजबूर कर दिया।

इसके पूर्व अलुमनाई मीट का कुछ अलग ही नजारा था। यह बात भी सच है कि थिरकते हैं कदम जब मिल बैठते हैं पुराने यार संग। पुरानी बातें और मुलाकातें, बस देखते ही बनती हैं । गले मिलते हैं तो पुरानी यादें एक बार फिर ताजा हो जाती हैं। मन करता है कि चलो पीछे लौट चलें। पूर्व विद्यार्थियों के मिलन समारोह में आईआईएमटी कॉलेज समूह के 2005 से 2016 बैच के देश विदेश की विभिन्‍न कम्‍मपनियों में कार्यरत 578 अलुमनाई शामिल हुए।
कॉलेज समूह के प्रबंध निदेशक श्री मयंक अग्रवाल ने छात्र छात्राओं का अपने पुराने कैंपस में आने पर स्‍वागत किया। साथ ही उन्‍होंने उनका आह्वान किया कि वे ही कॉलेज के असली ब्रांड ऐंबसडर हैं। आप देश में ही नहीं, बल्कि विदेश में भी आईआईएमटी के यश को फैलाएं। एकल व ग्रुप डांस करके छात्र-छात्राओं ने अलुमनाई का दिल जीत लिया। इसके अलावा पहचान कौन, तंबोला, बैलून बचाओ आदि फन गेम्‍स का भी आयोजन किया गया, जिसमें उन्‍होंने बढ़चढ़ कर भाग लिया फैशन शो में मिस्‍टर अलुमनाई व मिस अलुमनाई चुने गए।

एमबीए निदेशक डॉ. राहुल गोयल ने बताया कि अलुमनाई ने कॉलेज परिसर स्थित विभिन्‍न विभागों में भ्रमण कर अपनी पुरानी भूली बिसरी यादें ताजा की। उन्‍होंने औद्योगिक और कार्पोरेट जगत की जरूरतों व समस्‍यों के बारे में भी छात्र छात्राओं को अवगत कराया । वर्तमान छात्र एवं छात्राओं पूर्व छात्रों को अपने बीच पाकर खासा उत्‍साहित थे । उन्‍होंने उनसे अनेक सवाल-जवाब भी किए।