• Home »
  • दिल्ली/एनसीआर »
  • पांच राज्यों में यूपी एटीएस की बड़ी कार्यवाही, चार गिरफ्तार , छह हिरासत में, पूछताछ जारी

पांच राज्यों में यूपी एटीएस की बड़ी कार्यवाही, चार गिरफ्तार , छह हिरासत में, पूछताछ जारी

नोएडा । आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ईराक एण्ड सीरिया (आईएसआईएस) के माडयूल्स से जुडकर भारत में बड़ी आतंकवादी घटना को अंजाम देने की फिराक में घूम रहे आईएसआईएस खुरासान माॅड्यूल के चार सदस्यों को यूपी एटीएस ने गिरफ्तार किया है। इस मामले में 6 लोगों को हिरासत में लिया गया है। इस आपरेशन में 5 राज्यों की पुलिस व केंद्रीय खूफिया एजेंसियों ने एक साथ काम किया है।

उत्तर प्रदेश एटीएस के आईजी असीम अरूण ने बताया कि यूपी एटीएस को सूचना मिल रही थी कि उत्तर प्रदेश, मुंबई, पंजाब, बिहार में आतंकी संगठन आईएसआईएस अपना नेटवर्क तैयार कर रहा है। सूचना थी कि इन जगहों के कुछ युवक आईएसआईएस से जुड़ गये हैं। उन्होंने बताया कि सूचना के आधार पर आज तडके 5 राज्यों की पुलिस के साथ मिलक यूपी एटीएस ने मुंबई, जालंधर, नरकटियागंज बिहार, उत्तर प्रदेश के बिजनौर व मुजफ्फरनगर में एक संयुक्त आपरेशन किया। इस आपरेशन में एटीएस ने जनपद बिजनौर से आईएसआईएस से जुड़े मुफ्ती फैजान और तनवीर को गिरफ्तार किया। जबकि मुंबई थाणे क्षेत्र से नजीम नामक संदिग्ध को पकड़ा गया। वहीं पंजाब के जालंधर जनपद से मुजम्मिल नामक संदिग्ध को हिरासत में लिया गया है।
आईजी ने बताया कि इस मामले में तीन लोगों की गिरफ्तारी हुई है, जबकि 6 संदिग्धों को हिरसत में लेकर पूछताछ की जा रही है।।उन्होंने बताया कि पकड़े गये तीनों अराोपियों को नोएडा के न्यायालय में पेश किया जा रहा है जहां से उनका ट्रांजिक्ट रिमांड बनवाकर लखनऊ ले जाया जाएगा। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों के पास से आईएसआईएस से जुड़े महत्वपूर्ण दस्तावेज बरामद हुए हैं। उन्होंने बताया कि ये लोग आईएसआईएस के खुरासान मॉडल से जुडकर भारत में बड़ा गिरोह बनाकर बड़ी आतंकी घटना को अंजाम देने की फिराक में थे।
उन्होंने बताया कि गिरफ्तार व हिरासत में लिए गए सभी आरोपियों का इंटरनेट के जरिए आपस में संपर्क जुड़ा था। एटीएस ने नोएडा स्थित कार्यालय में इनसे गहनता से पूछताछ की है। आईजी के अनुसार बीते 7 मार्च को लखनऊ में आईएसआईएस के खुरासन मॉडल के सदस्य फैजल के एनकाउंटर में मारे जाने के बाद एटीएस को कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज हाथ लगे थे जिसके आधार पर इस जांच का दायरा 5 राज्यों तक बढ़ाया गया। उन्होंन बताया कि इस आपरेशन में केन्द्रीय खुफिया एजेंसियों का भी महत्वपूर्ण सहयोग रहा है।

ATS