• Home »
  • स्वास्थ »
  • आईटीएस डेंटल में विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर संगोष्ठी का आयोजन

आईटीएस डेंटल में विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर संगोष्ठी का आयोजन

ग्रेटर नोएडा : आईटीएस डेंटल काॅलेज में विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर संगोष्ठी काआयोजन किया गया। संगोष्ठी का मुख्य उद्देश्य कैंसर से होने वाले नुकसान व इसके बचाव के तरीकों का व्यापक प्रचार-प्रसार करना था।
its
इस अवसर पर धर्मशिला हाॅस्पिटल के डायरेक्टर डाॅ0 अंशुमन कुमार ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि कैंसर की उपज की मुख्य जड़ नशा खोरी है। उन्होने विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि आजकल के दौर में प्रतिस्पर्धा अपने चरम पर है, कुछ विद्यार्थी ऐसे होते हैं कि प्रतिस्पर्धा के दौर में पिछड जाते है जिससे वे मानसिक रूप से काफी तनाव में आ जाते है और वे अपना तनाव दूर करने के चक्कर में अनजाने में नशा करना शुरू कर देते है। जिस से बाद में उन्हे काफी कठिनाई होती है। डाॅ कुमार ने विद्यार्थियों को आगाह करते हुए कहा कि तनाव से बचने के लिए नशे की नही बल्कि सही सलाह की जरूरत होती है जो सम्बंधित विशेषज्ञ, अपने गुरू और माता-पिता आदि से की जा सकती है।
अपने सम्बोधन में संस्थान के निदेशक डाॅ0 अनमोल एस0 काल्हा ने कहा कि आई0 टी0 एस0 डेंटल कॅालेज कैंसर नाम की इस बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिए दृढ़ संकल्प है।डाॅ काल्हा ने आगे बताया कि संस्थान के अनुभवी डाॅक्टरों के द्वारा अलग-अलग जगहों पर शिविर लगाकर इस बीमारी के कारण व निदान के बारे में लोगों को जागरूक किया जाता है तथा आई0 टी0 एस0 डेंटल काॅलेज के कैम्पस में ओरल मेडिसिन और ओरल पैथोजोजी विभाग द्वारा प्राथमिक स्तर पर जाॅच व इलाज भी किया जाता है।
संगोष्ठी को संबोधित करते हुए संस्थान के प्रधानाचार्य डाॅ0 पुनीत आहुजा ने बताया कि मुख का कैंसर 90 प्रतिशत तम्बाकू, गुटखा व पान इत्यादि खाने तथा बीडी व सिगरेट आदि पीने से होता है। डाॅ0 आहुजा ने संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए बताया विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार पूरे विश्व में वर्ष 2012 तक 1 करोड 40 लाख कैंसर के रोगी पाये गये थे, विगत चार वर्षों से कैंसर रोगियों में 11 प्रतिशत प्रति वर्ष तेजी से वृद्धि हो रही है। डाॅ0 आहुजा ने अपने सम्बोधन में आगे बताया कि वर्ष 2013 में पूरे विश्व में लगभग 98 लाख लोगों की मृत्यु कैंसर के कारण हुई थी जिनकी आयु औसत 30 से 69 वर्ष के बीच थी।
इसके बचाव में डाॅ0 आहुजा ने बताया कि आजकल युवाओं में खासकर ग्रामीणांचल एवं मध्यमवर्गीय परिवार के युवकों के बीच नशा एक फैशन हो गया है जिसके कारण धीरे-धीरे वे इसकी चपेट में आकर न केवल खुद को मौत की गर्त में धकेलते हैं बल्कि अपने परिवार को भी रोते-बिलखते असहाय छोड जाते हैं।
संस्थान द्वारा 2-4 फरवरी 2017 तक जगत फार्म मे कैंसर जागरूकता अभियान चलाया गया जिसमे अनुभवी डाॅक्टरों के द्वारा शिविर लगाकर इस बीमारी के कारण व निदान के बारे में लोगों को जागरूक किया गया तथा कैंसर की प्राथमिक स्तर पर जाॅच भी करी गई। इस अभियान मे 200 से अधिक मरीजों का दन्त परीक्षण भी किया गया।
संगोष्ठी में छात्रों द्वारा कैंसर से समाज पर पडने वाले प्रभाव को नुक्कड नाटक के माध्यम से रोचक तरीके से प्रस्तुत किया गया तथा लोगों से धुम्रपान व गुटखा आदि कानशा छोडने की अपील की गयी जिससे इस बीमारी से बचा जा सके। संगोष्ठी में संस्थान में बी0डी0एस0 एवं एम0डी0एस0 के सभी छात्रों व शिक्षकों सहित लगभग 400 लोगों ने भाग लिया।

Sharing is caring!